सैफ अली खान की ‘TANDAV’ पर विवाद, उठी बैन करने की मांग जाने क्या है पूरा मामला

भारत में अमेजॉन प्राइम वीडियोस पर प्रसारित वेब सीरीज तांडव को लेकर विवाद जारी हो गया है। बता दें कि सैफ अली खान और डिंपल कपाड़िया की मल्टीस्टारर वेब सीरीज तांडव रिलीज होते ही विवादों में आ गई है। इस वेब सीरीज में हिंदू देवताओं के अपमान का आरोप लगाया गया है।

इतना ही नहीं भारतीय जनता पार्टी के विधायक राम कदम ने सीरीज के मेकर्स के खिलाफ हिंदू देवताओं के अपमान तथा हिंदुओं की भावनाओं के साथ खेलने का आरोप लगाते हुए घाटकोपर पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज करवाई है। इतना ही नहीं बीजेपी सांसद मनोज कोटक ने भी केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री प्रकाश जावेडकर को पत्र लिखकर तांडव सीरीज को बैन लगाने की मांग की है।

भारतीय जनता पार्टी के विधायक राम कदम ने तांडव के मेकर्स के खिलाफ शिकायत दर्ज करवाते हुए कहा है कि सीरीज के अभिनेता, निर्देशक और निर्माता के खिलाफ सख्त कार्यवाही होनी चाहिए।

शिकायत दर्ज करवाने से पहले विधायक राम कदम ने ट्विटर के जरिए इस सीरीज को बैन करने की मांग भी की थी।
उन्होंने अपने ट्विटर पर लिखा कि आखिरकार क्यों हर बार फिल्मों और वेब सीरीज में हिंदू देवी देवताओं को अपमानित करने का काम किया जाता है। ताजा उदाहरण नई वेब सीरीज तांडव है सैफ अली खान एक बार फिर ऐसी फिल्म यह सीरीज का हिस्सा है जो हिंदू भावनाओं को ठेस पहुंचाता है डायरेक्टर अली अब्बास जफर को सीरीज से भगवान शिव का मजाक बनाने वाला हिस्सा हटाना होगा। और एक्टर जीशान अय्यूब को माफी मांगना होगा जब तक जरूरी बदलाव नहीं होते तब तक तांडव का बहिष्कार किया जाएगा।

क्या है पूरा विवाद?
दरअसल पूरा विवाद तांडव वेब सीरीज के पहले एपिसोड के एक सीन को लेकर है। इस सीन में अभिनेता मोहम्मद जीशान अय्यूब भगवान शिव शंकर बने हुए हैं। और यूनिवर्सिटी के छात्रों को संबोधित करते हुए कहते हैं कि आखिरकार आपको किससे आजादी चाहिए। उनके मंच पर आते ही एक मंच संचालक कहता है नारायण नारायण, प्रभु कुछ कीजिए राम जी के फॉलोअर्स लगातार सोशल मीडिया पर बढ़ते ही जा रहे हैं। जिस पर अभिनेता आयूब कहते हैं कि क्या करें सोशल मीडिया का प्रोफाइल अपडेट कर देते हैं। इतना कहते ही यूनिवर्सिटी के छात्र हंसने लगते हैं।
इस सीन को देखकर यह प्रतीत होता है कि किस तरह हिंदू देवता भगवान शिव शंकर का मजाक बनाया जा रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *