जानिए कैसे मिली महिमा चौधरी को अपनी पहली फिल्म “परदेस”, क्यों बदलना पड़ा अपना पुराना नाम

भारतीय सिनेमा खुद में कई रहस्य और किस्सों को समेटे हुए है जहां पर कई लोग खुद की किस्मत आजमाने आते हैं । इनमें से कुछ लोग जहां आसमान का ध्रुव तारे की तरह चमकते रहते हैं। तो वहीं कुछ लोग ढेर सारे तारों के बीच में रह जाते हैं। आज हम बात करने वाले हैं बॉलीवुड की खूबसूरत अभिनेत्री महिमा चौधरी की। 13 सितंबर 1973 को पश्चिम बंगाल के दार्जिलिंग शहर में जन्मी महिमा चौधरी का असली नाम रितु चौधरी है। महिमा चौधरी ने अपनी पढ़ाई दार्जिलिंग के लोरेटो कॉलेज से की थी।

रितु चौधरी की पढ़ाई पूरी होने के बाद उनका रुख मॉडलिंग की तरफ हुआ। उन्होंने अपने शुरुआती दौर में कई टीवी ऐड भी किए अपने ऐड के करियर में महिमा चौधरी का सबसे फेमस ऐड पेप्सी के लिए था। उनके इस ऐड में उनके साथ अभिनेता आमिर खान और बॉलीवुड अभिनेत्री ऐश्वर्या राय भी थी। मॉडलिंग के बाद महिमा चौधरी ने म्यूजिक चैनल के लिए विज का काम भी किया था। इस बीच महिमा चौधरी को फिल्म निर्माता विधु विनोद चोपड़ा ने अपनी फिल्म करीब में काम करने का मौका दिया। जिससे कि महिमा चौधरी ने एक्सेप्ट भी कर लिया था।

A Horrible Accident Single Parenting And More Here's What Mahima Chaudhary  Here's Been Upto Through The Years

फिल्म करीब के ऑडिशन के दौरान सुभाष घई की नजर महिमा चौधरी पर पड़ी जो कि उस समय अपनी फिल्म प्रदेश के लिए लीड एक्ट्रेस तलाश रहे थे। उन्होंने उस समय महिमा चौधरी को ऑडिशन देने के लिए कहा लेकिन फिर भी महिमा चौधरी कुछ दिनों तक उनसे मिलने नहीं गई। क्योंकि उस समय सुभाष घई अपनी फिल्म प्रदेश के ऑडिशन के लिए लगभग 3000 नए चेहरों का ऑडिशन ले चुके थे। महिमा चौधरी को नहीं लगता था कि वह इस ऑडिशन को पास कर सकेंगी इसलिए वह सुभाष घई से मिलने नहीं गई परंतु कुछ दिनों के बाद महिमा चौधरी सुभाष घई से मिलने उनके ऑफिस में गई। महिमा चौधरी से मिलने के बाद सुभाष घई ने उनको अपनी फिल्म प्रदेश के लिए नियुक्त कर लिया।

8 अगस्त 1997 को फिल्म प्रदेश सिनेमाघरों में रिलीज हुई जिसके बाद से ही महिमा चौधरी ने सबके दिलों पर राज कर लिया फिल्म में उनके किरदार गंगा की मासूमियत को देख लोग दीवाने हो गए ऐसी दीवानगी को देख साल 1998 में महिमा चौधरी को बेस्ट फीमेल डेब्यू का अवॉर्ड भी दिया गया महिमा चौधरी को स्टार बनाने का श्रेय जहां सुभाष घई को जाता है वही रितु चौधरी को महिमा चौधरी बनाने का श्रेय भी सुभाष घई को ही जाता है दरअसल दोस्तों परदेस मूवी करने के दौरान सुभाष घई ने रितु चौधरी को एम से नाम रखने के लिए कहा क्योंकि उनके पिछले सभी अभिनेत्रियों के नाम एम से ही शुरु थे (Madhuri, Manisha etc) क्योंकि सुभाष घई को लगता था कि उनका एम नाम के साथ अच्छा कनेक्शन है इसलिए उन्होंने रितु को भी एम नाम से ही नाम रखने के लिए कहा।

I don't remember saying my lines in front of Shah Rukh: Mahima Chaudhary on  20 years of Pardes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *